Breaking News
Home » Bihar » Aurangabad » औरंगाबाद :फिल्म फेस्टिवल स्क्रीनिंग के लिए मास्टर साहब का हुआ चयन

औरंगाबाद :फिल्म फेस्टिवल स्क्रीनिंग के लिए मास्टर साहब का हुआ चयन

मगध एक्सप्रेस (15 अप्रैल 18):- कला के क्षेत्र में दाउदनगर अनुमंडल क्षेत्र एवं औरंगाबाद जिले के लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि सामने आई है .औरंगाबाद जिले के ओबरा प्रखंड के ओबरा निवासी फिल्म निर्माता सामाजिक कार्यकर्ता कुमार संजय गुप्ता द्वारा निर्मित, इसी प्रखंड के बिशनपुरा निवासी एवं लगातार कई वर्षों से मुंबई में छोटे पर्दे के मशहूर कलाकार अभिनेता राव रणविजय सिंह द्वारा अभिनीत एवं प्रख्यात निर्देशक अनिल गजराज द्वारा निर्देशित श्रीमती देवमुनी देवी फिल्म के बैनर तले बनी शैक्षणिक फिल्म मास्टर साहब का चयन दरभंगा में आयोजित अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल की ज्यूरी ने स्क्रीनींग के लिए किया है. अभिनेता राव रणविजय सिंह ने बताया कि दरभंगा इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिबल के डायरेक्टर मेराज सिद्दीकी ने चयनित फिल्मों की लिस्ट जारी करते हुए बताया है कि फेस्टिवल में पूरे विश्व के 88 देशों के फिल्मकारों की 1092 फिल्मों की इंट्री हुई थी.जिसमें ज्यूरी टीम ने 182 फिल्मों का ऑफिशियल सेलेक्शन किया है .चयनित फिल्मों को 20 ,21 व 22 अप्रैल को सिल्वर जुबली ऑडिटोरियम नरगौना प्लेस ,दरभंगा में दर्शकों के लिए स्क्रीनिंग किया जाएगा और चयनित बेस्ट फिल्मों को सम्मानित भी किया जाएगा. उन्होंने बताया कि इस अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिबल में रूस, अमेरिका ,चाइना, स्पेन, जापान आदि देशों की फिल्में शामिल हैं. शैक्षणिक फिल्म मास्टर साहब का निर्माण शिक्षा के प्रति जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से किया गया है .इस फिल्म का फिल्म फेस्टिबल में स्क्रीनिंग के लिए चयन होना गर्व की बात है. फिल्म में श्री राव के अलावा स्थानीय कलाकार ईशानी गुप्ता, संतोष अमन, विकास कुमार, संजय तेजस्वी, पिंकी गुप्ता, द्वारिका प्रसाद ,ब्रजकिशोर मंडल आदि ने भी अभिनय किया है.राव रणविजय सिंह ने बताया कि मास्टर साहब फिल्म एक शिक्षक के संघर्ष की कहानी है. आखिर क्यों इस फिल्म में गुरु व शिष्य के संबंध को दर्शाया गया है. यह फिल्म कई सवाल भी छोड़ता है .आखिर क्या कारण है कि हर मां बाप का सपना होता है कि उनका बच्चा पढ़ लिखकर डॉक्टर या इंजीनियर बने .आखिर एक अच्छा शिक्षक क्यों नहीं बनाना चाहते ,जबकि शिक्षक बच्चों के भविष्य के निर्माता होते हैं .बच्चे राष्ट्र के भविष्य होते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

गया :मम्मी जी एजुकेशन चैरिटेबल  स्कुल की गरिब छात्रा की मां की मौत पर स्कुल परिवार दुखी

Share this on WhatsAppधीरज गुप्ता मगध एक्सप्रेस (23 अप्रैल 18):-गया के बौद्ध गया मे फ्री ...

गया :सीयूएसबी में  सोशल साइंस रिसर्च विषय पर प्रो० सुनील रे का व्याख्यान

Share this on WhatsAppधीरज गुप्ता मगध एक्सप्रेस (23 अप्रैल 18):-गया के दक्षिण बिहार केंद्रीय विश्वविद्यालय ...

गया :अनुमंडलीय न्यायालय खिजरसराय के लिए जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने देखी जमीन

Share this on WhatsAppधीरज गुप्ता मगध एक्सप्रेस (23 अप्रैल 18):-गया के अनुमंडलीय न्यायालय खिजरसराय के ...

औरंगाबाद :क़फ़न- द लास्ट वील डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म को दरभंगा इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल में बेस्ट स्टोरी डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म का अवार्ड

Share this on WhatsAppमगध एक्सप्रेस (23 अप्रैल 18):-पुरुस्कृत डॉक्यूमेंट्री  फ़िल्म के डायरेक्टर धर्मवीर भारती ने ...